यूपी में सख्त सुरक्षा इंतजाम,इंटरनेट सेवाओं पर लगी रोक,कई शहरों में धारा 144 लागू

0
360

भारत बंद के खिलाफ आज सवर्णों की तरफ से कथित भारत बंद का एलान किया गया है। इस भारत बंद को सोशल मीडिया के जरिए बुलाया गया है। कोई एक संगठन या नेता इसकी अगुवाई नहीं कर रहा है। दो अप्रैल के दलितों भारत बंद के दौरान एमपी, यूपी राजस्थान समेत कई जगहों पर जमकर हिंसा हुई थी। इस हिंसा में अलग अलग जगहों पर करीब 10 लोगों की जान चली गई थी। इसलिए सोशल मीडिया पर बुलाए इस भारत बंद को देखते हुए प्रशासन पहले से मुस्तैद है कि पहले जैसी हिंसा न हो।
दरअसल, एससी-एसटी ऐक्ट पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ 2 अप्रैल को दलित संगठनों द्वारा भारत बंद का आह्वान किया गया था। इस भारत बंद के दौरान देश के तमाम हिस्सों में भारी हिंसा हुई थी। हिंसा के इन हालात में सबसे ज्यादा असर मध्य प्रदेश और राजस्थान में देखने को मिला था। इसके बाद सोशल मीडिया पर बड़े पैमाने पर लोग 10 अप्रैल को एक और भारत बंद का ऐलान करने लगे। इन लोगों और कुछ कथित संगठनों द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट मेसेज में आरक्षण के खिलाफ एकजुट होने और देश भर में होने वाले प्रदर्शनों में शामिल होने का आह्वान किया गया था।
गृहमंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सोशल मीडिया पर जाति के आधार पर आरक्षण के खिलाफ ओबीसी और जनरल वर्ग के कई संगठनों ने मंगलवार को भारत बंद का आह्वान किया है। सोशल मीडिया पर इसका प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वाट्सएप पर इस मैसेज को खूब शेयर किया जा रहा है और लोगों से भारत बंद का समर्थन करने की अपील की जा रही है। इसे देखते हुए सभी राज्य सरकारों को सुरक्षा चाक चौबंद करने और हिंसा रोकने के लिए जरूरी कदम उठाने को कहा है। इसके तहत संवेदनशील स्थानों पर गस्त बढ़ाना और बंद के दौरान उत्पात की आशंका वाले जगहों पर पुलिस बल की तैनाती शामिल है। गृहमंत्रालय ने राज्य सरकारों को यह सुनिश्चित करने को कहा है कि इस दौरान किसी तरह की जान-माल का नुकसान नहीं होना चाहिए। यदि किसी क्षेत्र में ऐसा होता है, तो उसके लिए सीधे तौर पर उस इलाके के एसएसपी और डीएम को जिम्मेदार माना जाएगा। सोमवार को मध्य प्रदेश सरकार में गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह ने प्रशासनिक अफसरों से चर्चा की प्रशासन ने एहतियात के तौर पर ग्वालियर, भिंड और मुरैना में प्रशासन ने स्कूल-कॉलेजों में 10 अप्रैल को छुट्टी घोषित कर दी है। साथ ही भिंड में सोमवार रात से पूरे दिन कर्फ्यू लगाने का फैसला लिया गया है। ग्वालियर में इंटरनेट सेवाएं रविवार रात 11 बजे से मंगलवार रात 10 बजे तक बंद रहेंगी। मुरैना में सोमवार दोपहर 2 बजे से इंटरनेट सेवा बंद रहेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here